१३५ : अंतस जब दर्पण बन धुँधलाता यादों को -- जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट१३५)

अंतस जब| दर्पण बन धुँधलाता यादों को ।
विरहाकुलनयनों से नीर छलक आता है ।।
दामन में धूप लिए यौवन दोपहरी में —-
भटका है प्यासा ही मरुथल की राहों में ।
बीते दिन पलछिन — से स्वप्निल वे रातें भी ,
महके थे पलभर को आशा की बाहों में ।
रेशम की डोर सबल झंझा में टूटी है ।
गीतों का कसकन से , किंतु अमर नाता है ।।

चाहा था छूना जब पूनम के ऑचल को ,
आतप की छॉव बनी , जीवन दहकाने को ।
चाही थी लेना जब करवट अरमानों की ,
फूलों की सेज बनी स्वव्निल तड़पाने को ,
जीवन रस पाने की धूल हुई इच्छाएँं ,
आहत मन दर्दीले गीत विरह गाता है ।।
—- जितेंद्र कमल आनंद , रामपुर ( उ प्र )
७-११-१६——- रामपुर– २४०

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share