१३५ : अंतस जब दर्पण बन धुँधलाता यादों को -- जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट१३५)

अंतस जब| दर्पण बन धुँधलाता यादों को ।
विरहाकुलनयनों से नीर छलक आता है ।।
दामन में धूप लिए यौवन दोपहरी में —-
भटका है प्यासा ही मरुथल की राहों में ।
बीते दिन पलछिन — से स्वप्निल वे रातें भी ,
महके थे पलभर को आशा की बाहों में ।
रेशम की डोर सबल झंझा में टूटी है ।
गीतों का कसकन से , किंतु अमर नाता है ।।

चाहा था छूना जब पूनम के ऑचल को ,
आतप की छॉव बनी , जीवन दहकाने को ।
चाही थी लेना जब करवट अरमानों की ,
फूलों की सेज बनी स्वव्निल तड़पाने को ,
जीवन रस पाने की धूल हुई इच्छाएँं ,
आहत मन दर्दीले गीत विरह गाता है ।।
—- जितेंद्र कमल आनंद , रामपुर ( उ प्र )
७-११-१६——- रामपुर– २४०

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119