Jun 30, 2017 · हाइकु
Reading time: 1 minute

॥माँसाहार मानव भोजन नहीं॥ हाइकु

माँसाहार का,
प्रभाव होता बुरा,
शरीर पर ॥1॥

नर हुआ है,
दानव निरा भूखा
खाता जीवों को॥2॥

सूझता नहीं,
उसे कुछ,मारता,
बेक़सूरों को॥3॥

पेट भरना,
कैसे भी हो अपना,
हिंसक हुआ ॥4॥

गाय या मुर्गा,
जीव सभी में एक,
बूझे, क्यों न ॥5॥

मृत हुआ है,
मन, तन भी है जो,
देवदुर्लभ॥6॥

निदर्शन है,
मानव, दानव का,
वर्तमान में॥7॥

ऐसा क्यों है?
सोचता नहीं, मानव,
सूनसान में ॥8॥

उपकृत है,
ईश्वर के प्रति जो,
कलेवर का॥9॥

करे प्रहार,
स्वजन पर क्यों न,
रहम आए ॥10॥
##अभिषेक पाराशर ##

87 Views
शिवाभिषेक 'आनन्द'
शिवाभिषेक 'आनन्द'
122 Posts · 15.1k Views
Follow 4 Followers
"गुरुकृपा: केवलम्" श्रीगुरु: शरणं मम। श्रीसीताशरणं मम। श्रीराम: शरणं मम। आदर्श वाक्य है- "स्वे स्वे... View full profile
You may also like: