।। बूँद बन गिरने लगा ।।

★★★
प्रेयसी का प्रेम तपती रेत सा तपने लगा।
तब बुझाने आग प्रियतम मेघ सा सजने लगा।।
★★★
बज उठा संगीत मन में प्रेम धुन की तान पर।
प्रेम की माला सदा मन-मीत अब जपने लगा।।
★★★
है बहुत प्यासी चकोरी प्रियतमा की चाह भी।
बाँह फैली देख बदरा बूँद बन गिरने लगा।।
★★★
है #फ़िजा में रंग बिखरे देख प्रियतम नाम के।
ले मिलन का भाव मन यह बन हवा उड़ने लगा।।
★★★
इक अधूरी सी कहानी पूर्णता की ओर अब।
घन सिमटती प्रियतमा को बाँह में भरने लगा।।
★★★

संतोष बरमैया #जय

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing