Jan 1, 2021 · कविता

।। कोरोना का शहर ।।

चीन के बुहान शहर से
निकलती हुई करूण आवाज़
विश्व के कोने कोने में
हो गया कोरोना आगाज़ ।।1।।

फिर क्या था देखते-देखते
गाँव गली मुहल्लो में
दहशत फैली चारो तरफ
उठी आवाज़ जोरो में ।।2।।

ट्रेन हवाई जहाज सब
बाधित कर दिया
मैं हूँ बलवान यह
साबित कर दिया ।।3।।

रात के अंधियारों से
शहरों के गलियारों से
खेत और खलिहानों से
खेल के मैदानों से ।।4।।

चारो तरफ आवाज़ एक है
रोग एक इलाज़ अनेक है
महामारी फैली विश्व भर में
विषाणु एक मरीज अनेक है ।।5।।

रचनाकार
कवि संजय कुमार *सनेही *
रामगढ़ निहोरगंज आजमगढ़ उत्तर प्रदेश
सम्पर्क सूत्र 9984696598
ई मेल skumar276201@gimal.com

Voting for this competition is over.
Votes received: 44
13 Likes · 40 Comments · 184 Views
You may also like: