31.5k Members 51.9k Posts

फ़िर तेरी याद सता रही है.....

तू अपनी शौहरत में मुझको भूल चुकी है,
लेकिन मुझे रह-रहकर याद आ रही है ।
मैं तो था सोता हुआ आवारा बेगाना-सा,
फिर तू मुझको क्यूँ बिरहा से जगा रही है ।

बेपरवाह हुआ मैं तेरी मख़मली बातों से,
तूने मुझ जब-जब बहकाया ।
तेरी हर बात को समझ इबादत,
बन तेरा दीवाना सारी दुनिया से टकराया ।

मैं करता बेइंतहा मोहब्बत आपसे,
साँस इस बदन में है जब तक ।
मुझे कहा छोड़ चला गया,
यादों में तेरी रोते-रोते सूख ये हलक ।

नज़र नहीं आया तुझे दौलत के सामने,
मेरा तेरे प्यार में समर्पित हो जाना ।
तूने मुझे भुलाकर बेगाना बना दिया,
हरगिज़ नहीं चाहता मैं तुझे यूँही खोना ।

3 Likes · 1 Comment · 9 Views
आर एस आघात
आर एस आघात
अलीगढ़
103 Posts · 2.8k Views
मैं आर एस आघात सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में सहायक प्रबन्धक के पद पर कार्यरत...
You may also like: