.
Skip to content

फ़रवरी

Bharat Kumar singh

Bharat Kumar singh

कविता

February 2, 2017

फ़रवरी है वर्ष का सबसे युवा सा महिना .
भागती ठण्ड आता खुशनुमा सा सारा जमाना .
पागल होते प्रेमी सारे प्रेमिका पे होकर दीवाना .
मुस्कुराते हैं फुल सारे, भौरे भी गाते गाना .
प्रेमिका भी प्रेमी से कहते ये दिल है आशिकाना .
बसंत आती है ग़म भी यहाँ से हो जाते रवाना .
खुशियों में डूब सब , दिल हो जाता परवाना .
छोड़ आलस्य लोग कहते मुझे भी है कुछ करना
चौदह को देख वेलेंटाइन होते सब कोई दीवाना .
बुड्ढे भी इश्क फरमाते युवाओं का क्या कहना .
देख वो दौड़ा गुलाब लेकर, क्या पता किसे है देना .
नज़रों ही नज़रों में फिट हुआ मुश्किल सा निशाना .
वाह रे वाह कैसा है यह फ़रवरी का महिना .

Author
Recommended Posts
** एक प्रेमिका ने प्रेमी से कहा **
एक प्रेमिका ने प्रेमी से कहा **** पत्थरों से दिल लगाने से क्या मिलेगा दिल ही लगाना है तो फूलों से लगाओ प्रेमी ने बहुत... Read more
भी होगा
लोट पास मेरे फिर आना भी होगा हाल-ए जिगर सब समझाना भी होगा मेरी प्यारे से प्रेमी बन जाओ तो कजरारी आँख में बिठाना भी... Read more
दीवाना हुआ
तुझे देख दिल बादल हुआ है आवारा पागल दीवाना हुआ है चाँद को अच्छे से ये निहार के चाँदनी का दिल दीवाना हुआ है प्यार... Read more
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला तुम सा कहीं भी हमको दीवाना नहीं मिला सपनें रहे अधूरे गिला ये रहा हमें वो चाहतों... Read more