Skip to content

ढ़लती हुई उम्र में,यौवन को आ जाने दें

Bhupendra Rawat

Bhupendra Rawat

कविता

February 11, 2017

ढ़लती हुई उम्र में,यौवन को आ जाने दें।
बची हुई उम्र में,दबी हुई ख्वाईश
को आज आज़माने दें।
आईने में आज ख़ुद को सवंर जाने दें।
जुल्फों को आज बिख़र जाने दे।
हुस्न ऐ जुम्बिश का जलवा बिखर जाने दे
चश्म ओ चिराग़ को भी आज
अपना हुस्न का नूर दिखाने दे।
चाहने वालो को आज गुश हो जाने दे।
भूपेंद्र रावत
05।01।2017
चश्म ओ चिराग=प्रिय
गुश=बेहोश
हुस्न ऐ जुम्बिश=हुस्न की हरकत

Author
Bhupendra Rawat
M.a, B.ed शौकीन- लिखना, पढ़ना हर्फ़ों से खेलने की आदत हो गयी है पन्नो को जज़बातों की स्याही से रँगने की अब बगावत हो गईं है ।
Recommended Posts
** कौन जाने  **
हुस्नवालों की चाहत क्या ,कौन जाने कब आ जाये कयामत कौन जाने१ गुस्से में क्यों है गुलबदन गुलाब क्या जाने चेहरा है लाल गुलफ़ाम हालत... Read more
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ/मंदीप
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ, बूखा है मेरा चाँद तू जल्दी आ। खड़ा मेरा चाँद छत पर, तू जल्दी से छत पर आ ।... Read more
तकदीर
बहकते है मेरे पाँव बहकने दे यार, गिरता हु आज, मुझे गिरने दे यार,, पी मैंने महकशी बेइंतिहा बेहिसाब, सरेआम हसरतो को बिखरने दे यार... Read more
वक्त यहीं पर अभी इसको ठहर जाने दे
वक्त यहीं पर अभी इसको ठहर जाने दे तेरे दीदार से नज़रों को गुज़र जाने दे नश्शा हो जाये मुझे मौत मेरी होने तक अपनी... Read more