23.7k Members 49.8k Posts

ज़िन्दगी

दीवारों के पीछे से
बंद दरवाज़ों के बीच
हल्की सी जगह से झांकती
ज़िंदगी

मुझसे पूछती है आज
क्यों हूँ मैं बंद यहाँ
इस अँधेरे कमरे में
क्यों खुद को छुपा रखा है
ज़माने की धूप से

बेखबर
क्यों हूँ मैं कि
मुझे ना है कोई फ़िक्र
अपनी और अपनों की
क्यों हूँ अनजान दर्द से खुद के
की चला जा रहा हूँ
बिखरे कांच के टुकड़ों पर

खुश नहीं हूँ
पर ख़ुशी के रास्तों को भी नहीं जानता
ग़म को मिटने का
कोई रास्ता क्यों नहीं निकालता

रोशनी
ज़रूरी है कि मैं कुछ देख पाऊँ
खुद से बाहर निकलूँ और
फ़िज़ा महसूस कर पाऊँ
फिर निकल आये पर मेरे
इस खुले आसमान में उड़ता
आज़ाद पंछी बन जाऊं
लौट जाऊं बचपन में
इस उम्र की ज़ंजीरें तोड़
अब लगता है मन में कहीं
कि बचपन में ही खुद को छोड़ आऊं

–प्रतीक

Like Comment 0
Views 28

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
प्रतीक सिंह बापना
प्रतीक सिंह बापना
उदयपुर, राजस्थान
43 Posts · 1.9k Views
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना...