ज़िन्दगी हमको बिताना आ गया

ज़िन्दगी हमको बिताना आ गया
रोते रोते मुस्कुराना आ गया

ज़ख्म देने में लगे इंसान सब
आजकल कैसा ज़माना आ गया

माँ मिली जो घर के बाँटे में हमें
झोली में हर इक खज़ाना आ गया

डर नहीं लगता किसी से अब हमें
आँख सूरज को दिखाना आ गया

दाँव सारे सीख दुनिया के लिए
हमको भी रिश्तें निभाना आ गया

याद के साए लिपट हमसे गए
मोड़ जैसे ही पुराना आ गया

माही
अमरसर, जयपुर

Like Comment 0
Views 28

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share