23.7k Members 49.9k Posts

ज़िन्दगी आजकल

ज़िन्दगी आजकल
आबशार-ए-ग़ज़ल

क्यों बनाते रहे
रेत के हम महल

अम्न हो चार सू
क्यों न करते पहल

देखकर हादिसे
दिल गया है दहल

इक ख़ुशी पाने को
जी रहा है मचल

गुनगुनाएं भ्रमर
खिल रहा है कमल

5 Views
महावीर उत्तरांचली
महावीर उत्तरांचली
नैनीडांडा (पौड़ी गढ़वाल) व दिल्ली
287 Posts · 9k Views
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार Books: इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह);...