*ज़िन्दगानी के मुसाफिर*

खुशबू को बिखराता जा
इस जग को महकाता जा
ज़िन्दगानी के मुसाफिर
आगे कदम बढ़ाता जा
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Like Comment 0
Views 21

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share