ज़िंदगी

ज़िन्दगी हमारे खुशियों की चौकीदार नहीं
जो हर पल हमारी निगरानी करें
मौक़ा मिले तो मुस्कुराया करो
जरूरी नहीं कि ये
कल भी होंठों पर मनमानी करें।

Like 5 Comment 1
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share