23.7k Members 49.9k Posts

ज़बानें हमारी हैं

ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ये हिंदी, ये उर्दू, ये हिन्दोस्तानी
ज़बानें हमारी हैं….

कभी रंग खुसरो, कभी मीर आए
कभी शे’र देखो, असद गुनगुनाए
चिराग़ाँ जलाओ, ठहाके लगाओ
यहाँ ख़ूबसूरत, सुख़नवर हैं आए
है सदियों से दुनिया, इन्हीं की दिवानी
ज़बानें हमारी हैं….

यहाँ सूर-तुलसी के पद गूंजते हैं
जिन्हें गाके श्रद्धा से हम झूमते हैं
कबीरा-बिहारी के दोहे निराले
जिन्हें आज भी सारे कवि पूछते हैं
कि हिंदी पे छाई है फिर से जवानी
ज़बानें हमारी हैं….

यहाँ ईद होली, मनाते हैं न्यारी
है गंगा-जमना की तहज़ीब प्यारी
यहाँ हीर गायें, यहाँ झूमे रांझें
यहाँ मरते दम तक निभाते हैं यारी
महब्बत से लवरेज हर इक निशानी
ज़बानें हमारी हैं….

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
महावीर उत्तरांचली
महावीर उत्तरांचली
नैनीडांडा (पौड़ी गढ़वाल) व दिल्ली
287 Posts · 9k Views
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार Books: इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह);...