.
Skip to content

ग़ज़ल

डॉकृष्णकुमार बेदिल

डॉकृष्णकुमार बेदिल

गज़ल/गीतिका

November 15, 2017

बदल रही है चमन की फजा पता है क्या।
नसीमे सहर का नश्तर कोई चुभा है क्या।
फिर इंक़लाब की आहट सुनाई देती है,
क़फ़स को लेके परिन्दा कोई उड़ा है क्या।
उसे पता है मेरी रोशनी कहाँ तक है,
कभी चिराग भी सूरज को देखता है क्या।
परिन्द फिर से उठाए हैं चोंच में तिनके,
कोई दरख़्त यहाँ फिर हरा हुआ है क्या।
सुना जो तुमने वो मैंने कभी कहा भी नहीं,
कहा जो मैंने वो तुमने कभी सुना है क्या।
वो शख्स सर पे बुज़ुर्गों का हाथ हो जिसके,
चिराग़ उसका हवा से कभी बुझा है क्या।
मिज़ाज गर्म है,लहजे में तल्खियां क्यों हैं,
तू आज खुद की निगाहों से गिर गया है क्या।
तमाम उम्र सभी के दिलों पे राज किया,
कुछ अपने दिल का भी बेदिल अता पता है

Author
डॉकृष्णकुमार बेदिल
पचास वर्ष से निरंतर लेखन, चार ग़ज़ल संग्रह तथा ग़ज़ल के व्याकरण पर एक पुस्तक प्रकाशित, मेरठ रतन की उपाधि से सम्मानित।
Recommended Posts
ग़ज़ल
आज तक मेरा रहा तो क्या हुआ . हो गया अब ग़ैर का तो क्या हुआ.. कब चला वो आँख अपनी खोल कर. रास्ते में... Read more
वो क्या है!!
तुम हो कि हद मे रह नहीं पाते हम है कि यह सब सह नहीं पाते। वो क्या है जो तुम सुनने को बेताब हो... Read more
किया तुमने भी है कल रतजगा क्या ?
किया तुमने भी है कल रतजगा क्या तुम्हें भी इश्क़ हमसे हो गया क्या तुम्हें ही देखना चाहे निगाहें इजाज़त देगा मेरा आइना क्या मिरा... Read more
बहुत प्यारा वादा था वो...
वो कहती है मुझे हमेशा कि में उसकी जान हुं, लेकिन दूसरे के साथ उसकी मुस्कुराती हुई तस्वीरें देखकर तो ऐसा नहीं लगता मुझे !!!... Read more