गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

ग़ज़ल

जाने किस ख़ता पर वो मुझसे रूठ जाते हैं
रह के मेरे ही दिल में मेरा दिल जलाते हैं

उनके ही ख़यालों में शब ग़ुज़रती है मेरी
और एक वो हैं जो मुझको आज़माते हैं

उस घड़ी ये दिल मेरा होने लगता बेक़ाबू
होंठो पर लिपिस्टिक जब वो लगाके आते हैं

बिजलियाँ सी गिरती हैं दिल पे मेरे उस दम भी
जब वो काली ज़ुल्फ़ों में चाँद को छुपाते हैं

चलते हैं वो बल खा कर गोया हिरनी चलती हो
और अदाएँ दिखला कर धड़कने बढ़ाते हैं

मैं भी रूठ जाऊँ तो भर के आँखों में आँसू
फिर वो बाँहों में भर कर बारहा मनाते हैं

मैक़शी न भाती है जाम का न तालिब हूँ
आँखों से ही पैमाना भर के वो पिलाते हैं

जब सताती है “प्रीतम” ग़म की धूप मुझको तो
गेसुओं के साये में प्यार से बुलाते हैं

प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उoप्रo)

1 Like · 35 Views
Like
Author
मैं रामस्वरूप उपनाम प्रीतम श्रावस्तवी S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे…
You may also like:
Loading...