ग़ज़ल- क़द नापिये न आप मेरा आसमान हूँ...

क़द नापिये न आप मेरा आसमान हूँ।
दुनिया की हर बला का मैं ही इक़ निदान हूँ।।

अस्तित्व में सिफ़र हूँ, ज़माना ये मानता।
मत शून्य मुझको समझो , मैं सारा ज़हान हूँ।।

गुरुग्रंथ की हूँ वाणी मैं उपदेश बुद्ध का।
हूँ आयत-ए-कुरान तो गीता का ज्ञान हूँ।।

अदना सा आदमी न समझना मुझे कभी।
क़दमों से दुनिया नाप लूं वामन समान हूँ।।

मैं ही अनादिकाल से अविचल अडिग खड़ा।
दुनिया को फ़क्र जिसपे वो भारत महान हूँ।।

बंधन न सरहदों का, न मजहब कोई मेरा
अम्मा की गोद भी हूँ, तो मैं ही मसान हूँ।।

निरन्तर…

✍🏻अरविंद राजपूत ‘कल्प’
221 2121 1221 212

Like 2 Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share