.
Skip to content

ग़ज़ल- सागर पे है भारी देखो

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 18, 2016

ग़ज़ल- सागर पे है भारी देखो
★★★★★★★★★★★
जिससे मेरी यारी देखो
उसने की गद्दारी देखो

आँसू का ये बहता दरिया
सागर पे है भारी देखो

तेरे खातिर ऐ जानेमन
मरने की तैयारी देखो

पाँचोँ थे रखवाले जिसके
रोती थी वो नारी देखो

दुख दर्दोँ की सर्द हवाएँ
जीवन की दुश्वारी देखो

भाव भरा ‘आकाश’ कहाँ है
रिश्तोँ मेँ लाचारी देखो

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
---
२२--२२--२२--२२ आ कर देखो मन की आग बुझाकर देखो दिल अपना दरिया कर देखो दोष हमीं को देते आये खुद से आंख मिलाकर देखो सागर... Read more
ग़ज़ल
ग़ज़ल रंजिशें यार जरा , दिल से भुला कर देखो ! हाथ दुश्मन से भी , इक बार मिला कर देखो ! दोस्ती , प्यार... Read more
गज़ल :-- चलो जो राह पे सम्हल के सामना देखो ॥
गज़ल :-- चलो जो राह पे सम्हल के सामना देखो ॥ 1212--1122--1212--22 इस बहर पर लिखे फिल्मी गीत 1) कभी कभी मेरे दिल में ख़याल... Read more
कुण्डलिया- दिल्ली की वायु
कुण्डलिया- दिल्ली की वायु ●●●●●●●●●●●●●● देखो रहकर गाँव में, सुविधाओं से दूर। मिलती है ताजी हवा, हरियाली भरपूर। हरियाली भरपूर, नहीं होती बीमारी। पर दिल्ली... Read more