ग़ज़ल- वो गुनाहों का एक साया था

ग़ज़ल- वो गुनाहों का एक साया था
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
वो गुनाहों का एक साया था
दाग दामन पे जो लगाया था
°°°
अक्ल पे जैसे पड़ गया परदा
एक ज़ालिम पे रहम आया था
°°°
भूल पायेगा वो मुझे कैसे
मुझको आँखों में जो बसाया था
°°°
जिसपे कुर्बान कर दिया खुद को
मैं उसी से फरेब खाया था
°°°
दूर रहता है आजकल मुझसे
जो कभी प्यार बन के छाया था
°°°
दिल अगर ये “आकाश” टूटा है
दोष तेरा है आजमाया था

– आकाश महेशपुरी

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like 1 Comment 0
Views 154

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing