.
Skip to content

ग़ज़ल- लौटेंगे क्या जाने वाले

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 18, 2016

ग़ज़ल- लौटेंगे क्या जाने वाले
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
इतना प्यार लुटाने वाले
लौटेंगे क्या जाने वाले

नाते तोड़े सच बोला तो
सच मेँ यार जमाने वाले

तन्हाई ने साथ निभाया
रूठे साथ निभाने वाले

कंगाली पे हँसते हो तुम
रोओगे मुस्काने वाले

दम्भ न करना रब के आगे
ऐ दुनिया मेँ आने वाले

वे लम्हेँ ‘आकाश’ कहाँ हैँ
खुशियोँ के पैमाने वाले

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
ग़ज़ल- सबको खोया है आजमाने में
ग़ज़ल- सबको खोया है आजमाने में ★★★★★★★★★★★★ मुझसा पागल कहाँ जमाने मेँ सबको खोया है आजमाने मेँ कैसे कैसे सवाल करता है जैसे बैठा हूँ... Read more
क्या सच बोलना भी जुर्म है इस जमाने मेँ ?
शामो सहर रहता था वीराने मेँ बस यही खासियत थी उस दीवाने मेँ मै सच बोलता हूँ तो लोग मुझसे रूठ जाते हैँ क्या सच... Read more
ग़ज़ल- जैसे कोई अफसाना
ग़ज़ल- जैसे कोई अफसाना ●●●●●●●●●●● तुमने कब ऐसा माना था हम दोनोँ मेँ याराना था याद नहीँ क्या तेरे पीछे फिरता कोई दीवाना था अपने... Read more
ग़ज़ल- ये दुख हुआ है जानकर
ग़ज़ल- ये दुख हुआ है जानकर ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ है ग़रीबी साथ पर ये दुख हुआ है जानकर मुँह छिपाये जा रहा था वो मुझे पहचान कर... Read more