.
Skip to content

ग़ज़ल- बंजर में जैसे फूल निकलते कभी नहीं

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 22, 2016

ग़ज़ल- ये स्वप्न…
मापनी- 221 2121 1221 212
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
ये स्वप्न मेरे’ स्वप्न हैं’ फलते कभी नहीं।
बंजर में’ जैसै’ फूल निकलते कभी नहीं।।

उपदेश दे रहे हैं’ हमें रोज क्या कहें,
सच्चाइयों की’ राह जो’ चलते कभी नहीं।

माना यहाँ है’ रात कहीं धूप है मगर,
ये टिमटिमा रहे हैं’ जो’ ढलते कभी नहीं

कितनी बड़ी है’ भूल जरा आप सोचिये
चीनी का’ उनको’ रोग टहलते कभी नहीं

जो पाव लड़खड़ाए’ तो’ गिरना है’ सोच लो
ऊँचाइयों की’ ओर फिसलते कभी नहीं

‘आकाश’ हौसलों की’ भले बात लाख हो
पर वक्त के मा’रे तो’ सं’भलते कभी नहीं

– आकाश महेशपुरी
★★★★★★★★★★★★★★★★
नोट- मात्रा पतन के लिए चिह्न (‘) का प्रयोग।

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
काले  बादल
काले बादल आज फिर से मेघ काले नाग से घिर-घिर हैं आने लगे। कभी मुग्ध, कभी दग्ध कभी भयावह, तो कभी नम्र कभी देते आँखों... Read more
चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने
चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने मुझ को देर रात तक,सोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने इक दर्द सीने में... Read more
दरख़्त
गज़ल 【दिल से ")】 " लाज़मी सा एक तू " फ़ासला सी रही जिंदगी कभी अपनों के दरम्यां कभी दरख्तों के नीचे फिर लाज़मी सा... Read more