ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी …
____________________________
ये कलयुग है यहाँ तो पाप को मिलता ठिकाना है
कि सच मैं बोल कर टूटा बड़ा झूठा जमाना है

यहाँ पर पाप हैं करते कि हम औ आप हैं करते
बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

न पूछो हाल कैसे हो गुजारा हो रहा कैसे
मेरी मजबूरियों पे क्या तुझे फिर मुस्कुराना है

हैं यादें आज भी मेरा कलेजा चीर देतीं जो
वही यादें बचीं मुश्किल जिन्हें अब भूल पाना है

भला ‘आकाश’ तुमसे हम शिकायत किसलिए करते
तुम्हारा काम जब केवल सभी का दिल दुखाना है

– आकाश महेशपुरी

327 Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...
You may also like: