Skip to content

ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 21, 2016

ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी …
____________________________
ये कलयुग है यहाँ तो पाप को मिलता ठिकाना है
कि सच मैं बोल कर टूटा बड़ा झूठा जमाना है

यहाँ पर पाप हैं करते कि हम औ आप हैं करते
बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

न पूछो हाल कैसे हो गुजारा हो रहा कैसे
मेरी मजबूरियों पे क्या तुझे फिर मुस्कुराना है

हैं यादें आज भी मेरा कलेजा चीर देतीं जो
वही यादें बचीं मुश्किल जिन्हें अब भूल पाना है

भला ‘आकाश’ तुमसे हम शिकायत किसलिए करते
तुम्हारा काम जब केवल सभी का दिल दुखाना है

– आकाश महेशपुरी

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)