Skip to content

ग़ज़ल- न जाने क्यूँ भला मशहूर होकर भूल जाता है

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

December 1, 2017

ग़ज़ल- न जाने क्यूँ भला मशहूर होकर भूल जाता है
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
मेरा साया है लेकिन दूर होकर भूल जाता है
कि वह सत्ता के मद में चूर होकर भूल जाता है
◆◆◆
सियासतदां को जनता ही उठाती है गिराती भी
मगर किस बात पर मगरूर होकर भूल जाता है
◆◆◆
रिवायत है जमाने की यहां हर शख्स यारों को
न जाने क्यूँ भला मशहूर होकर भूल जाता है
◆◆◆
कमी थी जब तलक हमसे वो अक्सर मेल रखता था
कि अपनो को भी जो भरपूर होकर भूल जाता है
◆◆◆
उसी के ही लिए ‘आकाश’ आँखें भीग जातीं क्यूँ
हमें आदत से जो मजबूर होकर भूल जाता है

– आकाश महेशपुरी

Share this:
Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended for you