ग़ज़ल- सितमगर तो मेरा ही यार निकला

ग़ज़ल- सितमगर तो मेरा ही यार निकला
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
नहीं सोचा वही हर बार निकला
सितमगर तो मेरा ही यार निकला
◆◆◆
मुहब्बत से भरीं आँखें ये तेरी
लबों से क्यूँ मगर इंकार निकला
◆◆◆
मुझे मिलती यकीनन आज मंजिल
किनारा ही मगर मझधार निकला
◆◆◆
कलेजा ही हमारा फट गया ये
कि जबसे फूल है अंगार निकला
◆◆◆
हँसाता एक बन्दा जो सभी को
हकीकत में बहुत बेजार निकला
◆◆◆
जिसे ‘आकाश’ कहते थे भवँर है
वही बस एक है पतवार निकला

– आकाश महेशपुरी

1 Comment · 680 Views
Copy link to share
#27 Trending Author
आकाश महेशपुरी
249 Posts · 55.1k Views
Follow 47 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: