ग़ज़ल- था भरोसा मगर सब धुंआ हो गया

ग़ज़ल- था भरोसा मगर सब धुंआ हो गया
●●●●●●●●●●●●●●●
था भरोसा मगर सब धुंआ हो गया
नाम जिसका वफ़ा बेवफा हो गया
°°°
सिर्फ मतदान कर के जरा सोचिए
फर्ज क्या आपका है अदा हो गया
°°°
जिंदगी में खुशी की तमन्ना रही
क्यूँ गमों का मगर सिलसिला हो गया
°°°
वो विधायक बना जबसे है साथियों
ऐसे मिलता है जैसे खुदा हो गया
°°°
तुम अभी भी वही ढूंढते हो सुकूं
ये नया दौर है सब नया हो गया
°°°
ऐसे ज़ालिम को “आकाश” क्या नाम दूँ
दिल चुरा कर मेरा जो जुदा हो गया

– आकाश महेशपुरी

1 Like · 320 Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त...
You may also like: