23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

ग़ज़ल:- तीर नजरों से अपनी चलाते हो क्यों

सालिम:फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन
(212 212 212 212 )

तीर नजरों से अपनी चलाते हो क्यों।
मेरे दिल को निशाना बनाते हो क्यों।।

फर्ज़ कहकर मदद मेरी करते रहे ।
अपने एहसां तले अब दबाते हो क्यों।।

दरबदर तुम भटकते रहे उम्र भर।
आज भटकें को राहें दिखाते हो क्यों।।

यूँ तो मदहोश नज़रों से करते रहे।
मयक़दे से हमें अब उठाते हो क्यों।।

जब अंधेरों ने हमको जकड़ ही लिया।
यूँ चिरागों को अब तुम जलाते हो क्यों।।

पाला पोसा हमें और शज़र कर दिया।
फ़ल की चाहत में पत्थर चलाते हो क्यों।।

मौत की गोद में जब सहारा मिला।
नींद से ‘कल्प’ को अब जगाते हो क्यों।।
✍ अरविंद राजपूत? ‘कल्प’

30 Views
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
साईंखेड़ा जिला-नरसिहपुर म.प्र.
215 Posts · 9.7k Views
अध्यापक B.Sc., M.A. (English), B.Ed. शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय साईंखेड़ा Books: सम्पादक कल्पतरु - एक पर्यावरणीय...
You may also like: