ग़ज़ल- चोट देने मुझे रुलाने आ

ग़ज़ल- चोट देने मुझे रुलाने आ
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
चोट देने मुझे रुलाने आ
फिर से जलवा वही दिखाने आ

अब तो खुशियाँ हमें डरातीं हैं
ग़म की दुनियाँ जरा बसाने आ

मेरे आँसू उदास रहते हैं
इनको फिर से गले लगाने आ

अब ये आहें भी आह भरतीं हैं
झूठे वादे लिये पुराने आ

कौन जाने “आकाश” क्या होगा
वक्त को भी तूँ आजमाने आ

– आकाश महेशपुरी

192 Views
Copy link to share
#1 Trending Author
आकाश महेशपुरी
248 Posts · 54.1k Views
Follow 46 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: