Skip to content

ग़ज़ल- चोट देने मुझे रुलाने आ

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 18, 2016

ग़ज़ल- चोट देने मुझे रुलाने आ
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
चोट देने मुझे रुलाने आ
फिर से जलवा वही दिखाने आ

अब तो खुशियाँ हमें डरातीं हैं
ग़म की दुनियाँ जरा बसाने आ

मेरे आँसू उदास रहते हैं
इनको फिर से गले लगाने आ

अब ये आहें भी आह भरतीं हैं
झूठे वादे लिये पुराने आ

कौन जाने “आकाश” क्या होगा
वक्त को भी तूँ आजमाने आ

– आकाश महेशपुरी

Share this:
Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended for you