.
Skip to content

ग़ज़ल /गीतिका

kalipad prasad

kalipad prasad

गज़ल/गीतिका

July 15, 2017

दुअम्ली पाक सेना हार कर आजरफ़िशां क्यूँ हो
हमेशा ही हमारे वीर सैनिक खूंचकाँ क्यूँ हो ?
किया है प्यार जब उसने, विरह में तब फुगाँ क्यूँ हो
बता सकता नहीं दिलकी, दहाँ में फिर जबाँ क्यूँ हो ?
किया आतंक से जर्जर अमन अब वादि-ए-कश्मीर
करे जय गान पाकिस्तान की, वो राजदाँ क्यूँ हो ?
चमन के बागवां है, मानता है फूल को बच्चे
गुलों को तोड़ने वालों पे’ माली मेहरबां क्यूँ हो ?
पडोसी किन्तु ‘काली’. है कहाँ वो मित्रता उनसे
अगर हम दोस्त बन सकते नहीं, तो नीमजाँ क्यूँ हो ?
किया है प्यार जब उसने, विरह में तब फुगाँ क्यूँ हो
बता सकता नहीं दिलकी, दहाँ में फिर जबाँ क्यूँ हो ?
न वो अपना हठीलापन को’ छोड़ा, मैं वसूलों को
अनादर जब मिला तो क्यों कहे तुम सरगिराँ क्यूँ हो ?
मुहब्बत से किया इनकार, सभा में भी किया रुसवा
नहीं काबिल, तेरे घर के वो’ संगे आस्ताँ क्यूँ हो ?
कफस सैयद का’ था सोने का’ आज़ादी कहाँ उड़ना
जहाँ परवाज़ प्रतिबंधित, वो’ अपना आशियाँ क्यूँ हो ?
नहीं इनकार जब तुमको कि मुझसे प्यार तुम करती
अगर सच है यही, तब प्यार आखों से निहाँ क्यूँ हो ?
गलत है भावना में दोष औरों पर लगाना दोस्त
है’ गलती किसकी’ जाने बिन कशाकश दरमियाँ क्यूँ हो ?
है’ जब आमाल जिम्मेदार, खुद मानव तबाही की
स्वयं फाँसी लगाया और दोषी आसमाँ क्यं हो ?
लिया है फैसला तुमने, न दिल अब तुम मुझे दोगे
मिलाया दुश्मनों से हाथ, तो मेरा इम्तिहाँ क्यूँ हो ?
शब्दार्थ : दुअम्ली = जिसके दो हुकूमत हो
आजरफ़िशां =आग वर्षाने वाला ,फुगाँ=कराह, आर्तनाद ;
दहाँ= मुहँ , खूंचकाँ= रक्तरंजित ,
सरगिराँ=नाराज ; संगे आस्ताँ=चौखट का पत्थर
निहाँ=गायब

कालीपद ‘प्रसाद’

Author
kalipad prasad
स्वांत सुखाय लिख्ता हूँ |दिल के आकाश में जब भाव, भावना, विचारों के बादल गरजने लगते हैं तो कागज पर तुकांत, अतुकांत कविता ,दोहे , ग़ज़ल , मुक्तक , हाइकू, तांका, लघु कथा, कहानी और कभी कभी उपन्यास के रूप... Read more
Recommended Posts
"हिन्दू मुस्लिम के चोंचले क्यूँ हैं " (मुक्तक) डगमगाये हमारे हौसलें क्यूँ है। उजड़े पंछियों के घोंसले क्यूँ हैं। हम तो सच के हिमायती हैं।... Read more
कोई तितली नहीं आती
तरही गज़ल 1222 1222 122 तेरे जाने का शिकवा क्यूँ करें हम l सितम खुद पर ढहाया क्यूँ करें हम ll जमीं पर चांद हमको... Read more
वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,,
इक दिया आम क्यूँ नहीं आता, वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,, एक ही शख़्स क्यूँ ज़बाँ पर है, दूसरा नाम क्यूँ नहीं आता,,... Read more
ख़ुद से दिन रात  क्यूँ  लड़े  कोई।
ख़ुद से दिन रात क्यूँ लड़े कोई। रोज़ ख़ुद क्यूँ मरे जिए कोई।। किन मसाइल का हल नहीं मिलता। ज़िन्दगी तुझसे क्यूँ डरे कोई।। बख़्त... Read more