ग़ज़ल- कितना है हत्यारा सिस्टम

ग़ज़ल- कितना है हत्यारा सिस्टम
■■■■■■■■■■■■■■■
देखो आज तुम्हारा सिस्टम
कितना है हत्यारा सिस्टम

आक्सीजन बिन मर जाओगे
कातिल है यह सारा सिस्टम

तेरी भूख मिटाए कैसे
नेताओं का चारा सिस्टम

प्यासी प्यासी जनता सारी
लेकिन है अंगारा सिस्टम

साँसों का है सौदा करता
देखो आज हमारा सिस्टम

जिसने भी आवाज उठाई
उस पर है फुफकारा सिस्टम

जीवन रेखा समझा जिसको
निकला वह गुब्बारा सिस्टम

चूसेगा बस खून हमारा
कबतक यह नाकारा सिस्टम

मौत खड़ी ‘आकाश’ यहाँ है
लेकिन नहीं सुधारा सिस्टम

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 03/05/2021

5 Likes · 3 Comments · 164 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
243 Posts · 47.7k Views
Follow 39 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: