.
Skip to content

ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 21, 2016

ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने
★★★★★★★★★★★★★
आज ये क्या किया सनम तुमने
जो न सोचा दिया वो गम तुमने

तेरे प्याले में था सुधा रस भी
विष क्यूँ होने दिया हजम तुमने

दूर जिसने रखा बलाओं को
सोचो उसपे किया सितम तुमने

कैसे लोगों से मैं मिलाऊँगा
नैन मेरे किए जो नम तुमने

बोझ तानों का कौन ढोयेगा
मुझमें छोड़ा कहाँ है दम तुमने

क्यूँ भला जिन्दगी से डरते हो
जब यहीं पर लिया जनम तुमने

चोट “आकाश” रोज खाते हैं
और हँसने की दी कसम तुमने

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
क्या सोचा है तुमने,
क्या सोचा है तुमने, आज दिवाली क्यूँ मना रहे । ऐसी कौन सी विजय मिली, जो दीप खुशी का जला रहे ।। क्या सोचा है... Read more
वीर बहुत किया तुमने
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?वीर बहुत किया तुमने? ऐ खुशियाँ ये चैनों की राते,, जिनकी वजह से पायी है तुमने।। उन अमर शहीदों को,, क्यों आज भुला दिया तुमने।।... Read more
अगरचे हक़बयानी लिख रहे हैं
आज़ 06/08/2017 की हासिल ग़ज़ल ******** मुहब्बत की कहानी लिख रहे हैं!! सनम की हम निशानी लिख रहे हैं!! ?????????? कहा है जिसको तुमने एक... Read more
ग़ज़ल
बदल रही है चमन की फजा पता है क्या। नसीमे सहर का नश्तर कोई चुभा है क्या। फिर इंक़लाब की आहट सुनाई देती है, क़फ़स... Read more