ग़ज़ल- चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे

ग़ज़ल- चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
अगर इतरा रहे हो तुम जो अपनी शान के आगे
चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे

ये माना आसमाँ का भी तू सीना चीर सकता है
मगर तू जा नहीं सकता कभी शमशान के आगे

ग़मों की आँधियों में भी खुशी के सिलसिले देखो
कि ग़म टिकता कहाँ कोई तेरी मुस्कान के आगे

हमारा यार होता तो सभी दुखड़े सुना देता
मगर अच्छा नहीं लगता किसी अनजान के आगे

अगर वो जा चुका है तो महज रोना है हाथों में
तुम्हारा वश चलेगा क्या कभी भगवान के आगे

जडें ‘आकाश’ होतीं हैं तभी ये फूल खिलते हैं
मगर वो भूल जाता है जरा पहचान के आगे

– आकाश महेशपुरी

132 Views
Copy link to share
#1 Trending Author
आकाश महेशपुरी
248 Posts · 54.1k Views
Follow 46 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: