ग़ज़ल।हौसलें मेरी जिंदगी के ।

ग़ज़ल।हौसलें मेरी जिंदगी के।।

हौसलें मेरी ज़िंदगी के थे नही कमजोर इतने ।।
छा गये आंखों में आँसू आज क्यूँ घनघोर इतने ।।

ऐ खुदा तू बुत बना बैठा है आख़िर आज क्यों ।
मैं लगा हारा हूं जबकि दम वफ़ा ऐ जोर इतने ।।

लुट गया मै दोस्ती से अब भरोसा उठ चला है ।
हो गये है हमवफ़ा ही हमसफ़र में चोर इतने ।।

हक़ नही उनका है मुझपर अब मुहब्बत न रही ।
आरजू सब मिट गयी दिल गये झकझोर इतने ।।

ऱख दिया नाज़ुक से दिल को पत्थरों के बीच में ।
जर्रा जर्रा तक मिला न वार थे पुरज़ोर इतने ।।

ख़ौफ़ दिल को था नही मौत से टकरा गया मै ।
उम्रभर फिसला ग़मो में दर्द के थे छोर इतने ।।

ख़ून रकमिश बह चला है दोस्ती में दिल्लगी में ।
अश्क़ आँखों में हमारे रह गये अब थोर इतने ।।

©राम केश मिश्र

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share