ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।

ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार क़ी दुनिया दिवानी अब नही होती।

अधूरे रह गये किस्से कहानी अब नही होती ।
तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।।

दिलों को तोड़कर बेसक दिया तुमने है तन्हाई ।
ज़लवा हुश्न में पागल शयानी अब नही होती ।।।

तुम्हें तो याद ही होगा तुम्हारा तो जबाना था ।
बेगाने हो रहे अपने जवानी अब नही होती ।।

पता चल ही गया होगा तुम्हे भी अश्क़ की क़ीमत । निगाहें कातिलानी वो गुमानी अब नही होती ।।

करोगे क्या वफ़ाई तुम मिली तुमको तो तन्हाई ।
जफ़ा में प्यार की क़ीमत चुकानी अब नही होती ।।

मेरे ही सामने मसलन मेरे खत को जलाया था ।
तेरे नफ़रत की वो यांदें पुरानी अब नही होती ।।

खुदा का फ़ैसला ही है अकेले रह गये “रकमिश” ।
कि तोहफ़े अब नही होतें निसानी अब नही होती ।।

राम केश मिश्र”रकमिश”

Like Comment 0
Views 97

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share