Skip to content

ग़ज़ल।आइना उसको दिखाना चाहिए ।

रकमिश सुल्तानपुरी

रकमिश सुल्तानपुरी

गज़ल/गीतिका

September 14, 2017

“””””””””””'””””””””””””””ग़ज़ल””””””””””””'””””””””””””

आग़ बदले की बुझाना चाहिए ।
हर किसी को मुस्कुराना चाहिए ।

नफ़रतों से ज़ख़्म ही मिलता सदा ।
रंजिशों को भूल जाना चाहिये ।

जिंदगी बस चार दिन की चाँदनी ।
प्यार से इसको सजाना चाहिए ।

मंज़िलों को छोड़कर दहलीज़ पर ।
फ़र्ज़ दुनियां मे चुकाना चाहिए ।

फ़र्क जिसको है नही सच झूठ का ।
आइना उसको दिखाना चाहिए ।

छोड़कर अब इश्क़ मे हैवानियत ।
दिल्लगी दिल से निभाना चाहिए ।

हो रही “रकमिश बड़ी तौहीनियां ।
अश्मिता सबको बचाना चाहिए ।

रकमिश सुल्तानपुरी

Author
रकमिश सुल्तानपुरी
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं ।... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल
कभी कभी खुद को यूं समझाना चाहिए। सोच समझ कर दिल कहीं लगाना चाहिए। कुछ लोग समझते हैं खुद को ही भग्वान; आइना उनको भी... Read more
ग़ज़ल ..'... .. वाज़दा चाहिए  ''
दाल रोटी बस...बकायदा चाहिए अब नहीं झगड़ना; वायदा चाहिए रूठ जाएँ कभी भूलकर आप हम लौट कर ला सके वो सदा चाहिए साँस के बीच... Read more
ग़ज़ल
वक्त आया महज़ फैसला चाहिए दुश्मनों से नहीं आँकड़ा चाहिए | घर में घुस कर पढ़ाना सबक लाज़मी लात के भूत को इंदिरा चाहिए |... Read more
राब्तो को आजमाना चाहिए
एक गजल.. दर्द में भी मुस्कुराना चाहिए, राब्तो को आजमाना चाहिए।। इल्म अपनों का कराने देखिये, मुश्किलो का वक़्त आना चाहिए, जिंदगी है मौत की... Read more