ग़ज़ल- आज बैठा हूँ मैं वीराने में

ग़ज़ल- आज बैठा हूँ मैं वीराने में
★★★★★★★★★★★
आज बैठा हूँ मैं वीराने में
सबको खोया है आजमाने में

कैसे कैसे सवाल करता है
जैसे बैठा हूँ उसके थाने में

साथ मेरे कलम न होती तो
वक्त कटता ये सर झुकाने में

माँगे मोटा वो हार सोने का
मैं तो पतला हुआ कमाने में

यूँ ना ‘आकाश’ ग़मज़दा होना
कौन दुखिया नहीं ज़माने में

– आकाश महेशपुरी

352 Views
Copy link to share
आकाश महेशपुरी
248 Posts · 53.4k Views
Follow 45 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: