.
Skip to content

ग़ज़ल- जबसे निकला है बेवफा कोई

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 18, 2016

ग़ज़ल- जबसे निकला है बेवफा कोई
★★★★★★★★★★★★★★★★
जबसे निकला है बेवफा कोई
मर्द हो के भी रो रहा कोई

देखो कैसे उदास बैठा है
जैसे गुजरा हो हादसा कोई

जिसको दिल का करार कहते हैँ
दे दे इसका मुझे पता कोई

उसके अश्कोँ पे खुश हुआ था मैँ
इसकी दे दे मुझे सजा कोई

तुम तो पत्थर को मात देते थे
कैसे आँखोँ मेँ छा गया कोई

कुछ तो ऐसे हालात होते हैँ
यूँ ही करता नहीँ ख़ता कोई

चोट ‘आकाश’ हैँ पुराने से
जख़्म दे दे मुझे नया कोई

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
ग़ज़ल- नहीं सोचा वही
ग़ज़ल- नहीं सोचा वही... ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नहीं सोचा वही हर बार निकला सितमगर तो मेरा ही यार निकला मुहब्बत से भरीं आँखें ये तेरी लबों से... Read more
तूफान साहिलों पे ठहरने न दे  मुझे
आज की हासिल ग़ज़ल ******** 221 2121 1221 212 अपनी निगाहों से तू उतरने न दे मुझे मैं बावफ़ा हूँ यार बिख़रने न दे मुझे... Read more
ग़ज़ल- जबसे तेरा ये प्यार पाया है
ग़ज़ल- जबसे तेरा ये प्यार पाया है ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ जबसे तेरा ये प्यार पाया है दिल ने असली करार पाया है जाने कैसा सूरूर है छाया... Read more
गजल गीत का सौदागर
Ashutosh Jadaun गीत Jul 28, 2017
मैं गजल गीत का सौदागर कुछ गीत बेचने निकला हूँ । जो दर्द दफन है सिने मे वो दर्द बेचने निकला हूँ ।। मैं गजल... Read more