Skip to content

ग़ज़ल- आसरा मिल गया

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 17, 2016

ग़ज़ल- आसरा मिल गया
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

प्यार का है मुझे आसरा मिल गया
जिन्दगी को नया रास्ता मिल गया

है यही जिन्दगी साथ हो हमसफर
हमसफर मिल गया तो खुदा मिल गया

मौत भी थम गई साँस चलने लगी
आज तो जिन्दगी का पता मिल गया

हम हसीँ जुल्फ की छाँव मेँ आ गये
यार जैसे कि जीवन नया मिल गया

था कि सपना यही यार को देखते
पर यहाँ इश्क का फैसला मिल गया

प्यार कहते सभी आग की है नदी
एक ग़म का नया सिलसिला मिल गया

आज ‘आकाश’ का हमसफर तू हुआ
अब न ये पूछना तुम कि क्या मिल गया

– आकाश महेशपुरी

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)