Skip to content

ग़ज़ल- हमसफर मिल गया तो खुदा मिल गया

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 17, 2016

ग़ज़ल- हमसफर मिल गया तो खुदा मिल गया
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

प्यार का है मुझे आसरा मिल गया
जिन्दगी को नया रास्ता मिल गया

है यही जिन्दगी साथ हो हमसफर
हमसफर मिल गया तो खुदा मिल गया

मौत भी थम गई साँस चलने लगी
आज तो जिन्दगी का पता मिल गया

हम हसीँ जुल्फ की छाँव मेँ आ गये
यार जैसे कि जीवन नया मिल गया

था कि सपना यही यार को देखते
पर यहाँ इश्क का फैसला मिल गया

प्यार कहते सभी आग की है नदी
एक ग़म का नया सिलसिला मिल गया

आज ‘आकाश’ का हमसफर तू हुआ
अब न ये पूछना तुम कि क्या मिल गया

– आकाश महेशपुरी

Share this:
Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended for you