ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ

ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ
जी में रड़क रही है साँसे जैसे मैं मरने लगा हूँ

सीने के जख्मों पे लौट कर कोई बहार आई है
सूना-सूना था भीतर से मैं अब खिलने लगा हूँ

कई बरसों की गर्द जमा थी आज तक चहरे पे
जी भर के जो रो लिया तो साफ़ दिखने लगा हूँ

मुद्दत से लापता है इक शख्स मुझमे ही कहीं
सहरा में दरिया के जैसे खुद को ढूँढने लगा हूँ

आँखों को आखिर कब तक धोखे में रखूँगा मैं
अब जागती हुई आँखो से ख्वाब देखने लगा हूँ

दर्द भरी साँसे भीतर न जाने कौन खिंच रहा है
रूह की तड़प देख के मैं और भी तड़पने लगा हूँ

खो गया न जाने कहाँ खामोशियों के अंदर मैं
चहरे से अब आईने की शनाखत करने लगा हूँ

साँसों का सारा तेल जल चुका पुरव के दिल से
मैं उम्मीदों का इक दिया हूँ जो बुझने लगा हूँ

1 Comment · 18 Views
जवान बेवा की जुल्फें हो गई जिन्दगी न संवारने का दिल ना बनाने का दिल
You may also like: