Skip to content

क़ैद में रो रहा उजाला है…

पंकज परिंदा

पंकज परिंदा

गज़ल/गीतिका

March 15, 2017

उनके चेहरे पे तिल जो काला है
उसने कितनों को मार डाला है।

चांद बेदाग इक हसीं देखा
दुनिया भर से ही वो निराला है।

जिंदगी जिस पे वार दी मैंने
उसने छीना मेरा निवाला है।

रूबरू झूठ जब हुआ सच से
पड़ गया क्यों ज़ुबां पे ताला है।

मुझ पे आकर वही गिरा देखो
मैंने पत्थर भी जो उछाला है।

जानते हैं सभी जहां वाले
दर्द को कैसे मैंने पाला है।

मेरी दुनिया उजाड़ दी उसने
ज़िन्दगी भर जिसे संभाला है।

धूल पैरों से माँ की ले लेना
वो ही गिरज़ा वही शिवाला है।

तीरगी जीत ही गई आख़िर
क़ैद में रो रहा उजाला है।

पंकज शर्मा “परिंदा”

Share this:
Author

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you