.
Skip to content

क़तरा-क़तरा लहू…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

April 16, 2017

??? सैनिकों के सम्मान को समर्पित रचना ???

????????????????????

क़तरा-क़तरा लहू टपकता *भारत माँ* की आँखों से।
कलम आज अंगार उगलती नापाकी एहसासों से।

हिन्द-धरा से भूल हुई क्या जो दल्ले जन डाले हैं?
माँ के आँचल पर दहशत के बद्दिमाग ये छाले हैं।

स्वाभिमान को तार-तार करने की ये तैयारी है?
सेना की खुद्दारी पर इनकी ये चोट करारी है।

वर्दी भी हथियार हाथ में लेकर आज कराह रही।
पत्थरबाजों को मौका दे सत्ता भी क्या चाह रही।

*राजनीति के तुष्टिकरण* में भारत सब कुछ हार गया।
पाक-परस्त ज़िहादी भारत माँ को थप्पड़ मार गया।

सहनशीलता के प्याले में लहू कब तलक पी लोगे?
वीर जवानों की अस्मत का सौदा कर क्या जी लोगे?

गद्दारों की गद्दारी को भूल समझना बन्द करो।
अब या तो कश्मीर छोड़ दो या फिर इनसे द्वन्द करो।

*छप्पन इंची सीना* अब फिर से खोल दिखा दो जी!
*पागल कुत्तों को गोली है* ये आदेश थमा दो जी !

दिल्ली कब तक मौन रहेगी इस हरक़त नापाकी पे?
कब तक पत्थरबाजी होगी गद्दारों की ख़ाकी पे?

घाटी की मजबूरी समझो इतिहासों को याद करो!
चाहते हो कश्मीर बचाना तो सेना आजाद करो!

घाटी को नापाक करे वो सर ही कलम करा दो अब!
हूर बहत्तर दे जन्नत का रस्ता इन्हें दिखा दो अब!

ठण्ड कलेजे को पहुंचेगी सवा अरब को खुश कर दो!
ढूंढ़-ढूंढ़ दहशत-गर्दों के पिछवाड़े में भुस भर दो!

याद रहे *जय हिन्द* इन्हें *होठों पर जन-गण गान* रहे!
घाटी में मंगल धुन गूंजे *भारत माँ* की आन रहे।

*तेज* धार की शमशीरों को अब चमकाना ही होगा!!
कुत्तों को औकात दिखा कर *पाठ पढ़ाना ही होगा*!!

??तेज✍ 15/4/17??

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
"कतरा कतरा पिघली हूँ"(2×15) यादों की जलती लाशों पर मैंने हर इक सर्द लिखा कतरा-कतरा पिघली हूँ तब जाकर मैंने दर्द लिखा। आँखों से बरसा... Read more
कतरा कतरा जी रही है वो
गजल :- कतरा कतरा जी रही है वो-: कतरा कतरा जी रही है वो दर्द-ए-आंसू पी रही है वो त्याग करके घर बनाती रही उसी... Read more
दीप-लहू
" दीप- लहू " ----------------- तब तू बहना मेरे शोणित, जब देश मेरा पुकार करे | कतरा-कतरा तू बह जाना , अगर वतन-अरि हुंकार भरे... Read more
माँ और बाप
आस्थाओं की आस्था प्रेम की पराकाष्ठा निज का दफ़न ताप, माँ और बाप .. आंसुओं के नद परवाह की हद अपनेपन की अमिट छाप माँ... Read more