.
Skip to content

हक़

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

गज़ल/गीतिका

March 2, 2017

?? हक़ ??

??????????
हक़ मांगने गए तो बड़े शोर हो गए।
इल्ज़ाम ये लगा कि मुंह जोर हो गए।

क़ायम रहा ईमान उनका देश बेचकर।
हम रोटियाँ चुरा के बड़े चोर हो गए।

खा-खा के कसम वोट मांगते जो दिखे थे।
जीते तो पांच साल को फिर मोर हो गए।

चंदे पे लड़ चुनाव जो पहुंचे असेम्बली।
अगले ही साल वन टू का फोर हो गए।

सीमा पे इक जवान था छुट्टी को तरसता।
नेताजी बीस बार आउटडोर हो गए।

फसलें किसान की यहाँ बर्बाद हो रहीं।
नेता दलाली खा के डबलडोर हो गए।

करते थे जो बखान कि सिस्टम में दोष है।
कुर्सी उन्हें मिली तो वही प्योर हो गए।

हर आदमी है “तेज” मगर क्या उपाय है।
सुन-सुन के ज्ञान-ध्यान सभी बोर हो गए।
??????????
तेजवीर सिंह “तेज”

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
खड़े रह गए
गीतिका बहर- 212 212 212 212 हम खड़े थे खड़े के खड़े रह गए। क्यों अड़े थे अड़े के अड़े रहे गये? राज जो भी... Read more
जब से हमारे पाँव, रक़ाबों में आ गए,
21 जुलाई 2015 ========== जब से हमारे पाँव रकाबों में आ गए, जितने भी शहसवार थे घुटनों में आ गए, कल शाम उसको देखा तो... Read more
**प्यार करने वाले ..खुद तलबगार हो गए हैं **
रास्ते अलग थलग से हो गए हैं प्यार करने वाले बड़े बेबस से हो गए हैं खुद ही पहरा लगवा लेते हैं अपने पर इसी... Read more
धीरे - धीरे ज़ख़्म सारे
धीरे - धीरे ज़ख़्म सारे अब भरने को आ गए , एक बेचारा दाग़ -ए -दिल है जिसको ग़म ही भा गए। ज़िन्दगी को जब... Read more