हौंठ

होंठ तेरे गुलाब के फूल से भी कोमल है….
चूमते वक्त कहीं खरोच ना लग जाये दिल में बस मेरे ये ही डर रहे…

4 Views
Myself Naseeb Jinagal Koslia Am An Story/Script Writer. Singer And Actor.
You may also like: