गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

हो प्यार में जाए अगर थोड़ी बहुत तकरार

हो प्यार में जाए अगर थोड़ी बहुत तकरार
करना कभी इसमें नहीं इस पार या उस पार

बस खेलती हरदम रहे ये ज़िन्दगी यूँ खेल
गम या ख़ुशी के रूप में देती रहे उपहार

है चार दिन की ज़िंदगी रखना इसे बस याद
आसान हो जाती अगर हो पास अपने प्यार

मत मुश्किलों को देखकर लो हार अपनी मान
ये ही सफलता के यहाँ पर खोलतीं भी द्वार

दिल मत दुखाना तुम किसी का बोल कड़वे बोल
मुस्कान जो बस दे सके ऐसा करो व्यवहार

चाहें बड़ा हो हौसलों का ‘अर्चना’ आकाश
ईमान का रखना सदा अपना यहाँ आधार
डॉ अर्चना गुप्ता

107 Views
Like
1k Posts · 1.3L Views
You may also like:
Loading...