होली

चली फागुनी बयार बावरा मन हुआ तैयार
शोर शराबा हल्लम हुल्ला ढप गीत धमाल
गली गली

पिचकारी की धार गुब्बारे की मार
छुपते छुपाते बचता हर कोई रंग जाने से
गली गली

भांग मिली ठंडाई गुज़िया और मिठाई
बाजार लगा है खरीदे हर कोई
गली गली

कही है बच्चो का झुण्ड कही है लोग लुगाई
होलिका दहन की परंपरा की मंगल बेला आई
भक्त प्रहलाद की जय जय गूँजे हरबार
गली गली

उड़े धरती का गुलाल रंग गया नील गगन
दशों दिशाये खेले होली होकर के मगन
गली गली

होलिकोत्सव की इंद्र धनुषी शुभकामनाएं
सुख सफलता खुशिया सन्देश पहुँचे
गली गली

64 Views
You may also like: