.
Skip to content

होली गीत – कान्हा पिचकारी मत मारे

sunil nagar

sunil nagar

कविता

March 12, 2017

कान्हा मत मारे पिचकारी , थाने देवूँगी में गारी ,

चुनर थाने रंग दी म्हारी , मोहन मदन – मुरारी ,
तु तो कान्हा नंद को छोरो , मैं वृषभान दुलारी ,
थाने भरी है रंग पिचकारीईईई
क्यो मोहे पे डारी ||१||
ओ कान्हा मत मारे ———–

क्यो चुपके – चुपके तु आता , चुनर रंग में मोरी भिगोता ,
लाल , गुलाबी , नीला , पीला , क्यो केशरि़या रंग डारी ,
तु तो है ब्रज को कान्हा , मैं बरसाने की नारी ||२||
ओ कान्हा मत मारे ———-

कुंज – गलिन में बईया मरोड़े , दही माखन की मटकियाँ फोड़े ,
क्यो फोड़ी तुने मटकी कान्हा , देवेगी सास मोहे गारी ,
करूँ शिकायत मात यशोदा से , जाऊँ “सुनील” बलिहारी ||३||
ओ कान्हा मत मारे ——–

रचनाकार – सुनील नागर
ंा

Author
sunil nagar
सुनील नागर खुजनेर राजगढ़ ( म. प्र.) एम. ए . - हिन्दी कार्य - अध्यापक हिन्दी , संस्कृत
Recommended Posts
***कान्हा के संग होली** मनाए राधा भोली***
Neeru Mohan गीत Mar 12, 2017
*मारे भर भर भर पिचकारी ओ मेरे नंदलाली चुनर मोरी लाल हुई *तू रंग मोहे ऐसा लगाए गिरधारी मोरे प्यारे ये तेरी राधा लाल हुई... Read more
*कानहा की लीला *
कानहा की मुरली तान है सुरिली कर दे नशिली। कानहा तेरी याद कर दे आबाद है ऐसी नाद । कानहा छेड़े पनघट बुलाए यमुना तट... Read more
*कानहा खेले होरी *
कानहा खेले होरी संग राधा गोरी कानहा के हाथ कनक पिचकारी राधा के हाथ अबीर की पोटरी रंग लगायो कानहा ऐसो राधा हो गई मन-मगन... Read more
**    अपने ही रंग में  **
. कुछ खास लोग जो अपनी भावनाओं का इजहार बेहतर तरीके से करते है । एक अच्छे मुकाम को हासिल करते हैं ।। ?मधुप बैरागी... Read more