.
Skip to content

** होली खेलत नन्दलाल **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

गीत

March 5, 2017

. राधिका गोरी संग
ब्रज की छोरी संग
बनवारी बिहारी अब
होली खेलत नन्दलाल
बचाये भोली राधा अपने
अपने तन के तंग अंग
माने ना चंचल कान्हा
डारे फिर फिर श्यामल रंग
चाहे कितना ही बचाले राधिका
अपने अंग की अंगिया को
कान्हा छोड़े ना राधिका
गोरी को बिन डारे रंग
अब बचा न पायेगी
श्याम से श्यामल रंग
गोपिका देखकर भीगे
बदन रह जायेगी दंग
कहीं पी ली ना भंग
अब खेले राधा संग
होली खेलत ननंदलाल ।।। ?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
हाइकू
हुरियार हायकू.... ?????????? ब्रज की होरी बचै ना कोई कारी, ना कोई गोरी। नन्द कौ लाल भरि-भरि मारत, रंग-गुलाल। आज खेलत ब्रज में फाग हरी,... Read more
*कानहा खेले होरी *
कानहा खेले होरी संग राधा गोरी कानहा के हाथ कनक पिचकारी राधा के हाथ अबीर की पोटरी रंग लगायो कानहा ऐसो राधा हो गई मन-मगन... Read more
सायली छंद (१, २, ३, २ ,१ ) *होली* उमंग रंग -बिरंगी तन-मन छाई प्यारी होली आई। बरसा टेसू रंग आँगना भीगी चोली खूब खेली... Read more
होली खेलो यार मीत ,यह बात मैं दिल से करता हूं। रंग में भर के प्यार आज,दुनिया को रंग मैं रंगता हूं। प्रेम का आधार... Read more