Skip to content

होली की चौपाल

शिव मोहन यादव

शिव मोहन यादव

कविता

February 14, 2017

बंदर के घर लगी हुई थी,
होली की चौपाल,
सभी जानवर मस्ती में थे,
उड़ने लगा गुलाल!

ऊंचे स्वर में आज गधे ने,
गाई लम्बी फाग।
भालू दादा ढोलक लेकर,
मिला रहे थे राग।
नहीं किसी का सुर मिल पाया,
मिली न कोई ताल!
बंदर के घर. . .

तभी वहाँ गुब्बारे लेकर,
आया एक सियार।
बोला सबको बहुत मुबारक,
होली का त्योहार।
आओ देखो गुब्बारों में,
हम लाये हैं माल!
बंदर के घर. . .

देखा तो इतने में भैया,
सक्रिय हुआ सियार।
फिर सबको गुब्बारे मारे,
कर डाली बौछार।
सबके चेहरे रंगे हुए थे,
काले, पीले, लाल!
भगदड़ चारों ओर मच गयी,
खतम हुई चौपाल!!

Share this:
Author
शिव मोहन यादव
जन्म- नेरा कृपालपुर, कानपुर देहात में माता-पिता : श्रीमती कुषमा देवी-श्री सूरज सिंह शिक्षा: बी.एस-सी., एम.ए.(जनसंचार एवं पत्रकारिता) लेखक 'दैनिक जागरण' में उप संपादक रहे हैं. पता - नेरा कृपालपुर, गौरीकरन, कानपुर दे. यूपी मो. 9616926050 ई-मेल - shivmohanyadavkanpur@gmail.com
Recommended for you