.
Skip to content

“होली की कुण्डलियाँ “(कुण्डलियाँ छंद)

ramprasad lilhare

ramprasad lilhare

कुण्डलिया

March 16, 2017

“होली की कुण्डलियाँ ”
(कुण्डलियाँ छंद)
1.
सजना,सजनी से कहे, रंग न डालो मीत।
अबकी होली में प्रिये, कर मुझसे बस प्रीत।।
कर मुझसे बस प्रीत, साथ कभी ना छोड़ना।
जाये भी सब रूठ, तुम मुझसे ना रूठना।
हो सब तुझसे दूर, तु मुझसे दूर न रहना।
कहे रामप्रसाद, कहे सजनी से सजना।

2.
त्याग दो ऊँच निच सभी, छोड़ो सभी विकार।
बैर भाव सब छोड़ दो, रखो दिलों में प्यार।
रखो दिलों में प्यार, होली का त्योहार है।
करो आपस में प्यार, छाया बहुत खुमार हैं।
छोड़ो सब तकरार, सब को अब तुम प्यार दो।
कहे रामप्रसाद,ऊच नीच सब त्याग दो।

रामप्रसाद लिल्हारे
“मीना “

Author
ramprasad lilhare
रामप्रसाद लिल्हारे "मीना "चिखला तहसील किरनापुर जिला बालाघाट म.प्र। हास्य व्यंग्य कवि पसंदीदा छंद -दोहा, कुण्डलियाँ सभी प्रकार की कविता, शेर, हास्य व्यंग्य लिखना पसंद वर्तमान में शास उच्च माध्यमिक विद्यालय माटे किरनापुर में शिक्षक के पद पर कार्यरत। शिक्षा... Read more
Recommended Posts
होली खेलो यार मीत ,यह बात मैं दिल से करता हूं। रंग में भर के प्यार आज,दुनिया को रंग मैं रंगता हूं। प्रेम का आधार... Read more
होली मुक्तक : मुझे चुमकार होली में ॥
रहूँगा मैं नहीं तैयार खाने मार होली में ॥ लगा फटकार निसदिन पर मुझे चुमकार होली में ॥ तू मुझसे दूर रहले साल भर भी... Read more
बरसे है रंग.................... होली आई आज
बरसे है रंग और उड़े है गुलाल होली आई, होली आई, होली आई आज सुर भी है ताल और गीतों के साथ होली आई, होली... Read more
** इक दूजे के होंलें हम **
रंगो का त्यौहार है होली अपनों का प्यार है होली भूलों का सुधार है होली गुलो से गुलज़ार है होली।। ?होली मुबारक मिल जायें होली... Read more