.
Skip to content

होली उत्सव प्रसंग पर…

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

कुण्डलिया

March 12, 2017

तीन कुण्डलिया छंद

(1)
बहे बसंती पवन ले,अपने उर में प्यार.
कोयल गाकर कह रही,सरस करो सत्कार.
सरस करो सत्कार,पर्व यह प्रेम-भाव का.
होवे सच की जीत,शमन होवे दुराव का.
कह सतीश कविराय,खुले अंतर की ग्रंथी.
नफ़रत खाये मात,पवन यूँ बहे बसंती.

(2)
रीति निभाये प्रेम की,होली का त्योहार.
समरसता के रंग में,रमता हर घर-द्वार.
रमता हर घर-द्वार,खुशी आपस में बाँटे.
त्याग घृणा का भाव,दूरियाँ दिल की पाटे.
कह सतीश कविराय,गीत अंतर निज गाये.
होली का त्योहार,प्रेम की रीति निभाये.

(3)
कर्म-रंग में हम रँगें,प्रियवर! आठों याम.
सत्य मान इस वाक्य को,है आराम हराम.
है आराम हराम,चलो सद्कर्म करें हम.
स्वप्न करें साकार,स्वयं के स्वयं हरें ग़म.
कह सतीश कविराय,सीख यह छुपी भंग में.
रँगें सरस दिन-रात,सिर्फ़ हम कर्म-रंग में.
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

Author
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more