होरी मे डालु ने रंग गुलाल

होरी मे ने डालु रंग गुलाल ,
सीया होरी मे,
जे अहाँ डालवै त कि कहते गौआ(villager)
खेलु अहाँ सब चारो बहिना,
छोड़ु हमर कपारी ईऐ होरी मे,

शयामल मुखरा पे चढ़े कोन रंगवा,
लाल पियर(yellow) हरीयर (green)रंग,
हम डालव यौ पहुना
होरी मे अहाँ, बच ना सके छी,
हम ने डालव त हसतँ हमर सखियाँ,
केना जवे बच के मिथला से यो पहुना,
होरी मे रगं ने डालु सिया,
होरी मे,
मयार्दा मे हम छीये सुनु राजकुमारी,
भंग ने हम ई अहाँ के जिम्मेदारी,
लखन खुव हँसते इये,देख मुखरा हमारी,
होरी मे रंग ने डालु इए राजकुमारी

It is maithili language , some spelling may be wrong plz ignore it

Like 1 Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing