Skip to content

होठ की लाली

sunny gupta

sunny gupta

मुक्तक

April 21, 2017

सुबह के सूर्य के जैसे,तेरे होठो की लाली है।

किसी सावन की बदली सी तेरी ये जुल्फ काली है।।

सुखद मकरन्द के जैसे जहाँ से खुसबुये आती।

वही राधा है जो सारे ज़माने से निराली है।।

कृतिकार
सनी गुप्ता मदन
9721059895
अम्बेडकरनगर

Author
sunny gupta
Recommended Posts
गीत :-- ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !!
गीत :-- ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !! ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली ! खुदा नें है बख्शा या... Read more
*** गणित ही बदल डाला ***
सूरज भी तेरे हुस्न की लाली से निकलता होगा फिर तो चाँद भी तुम्ही से रोशनी लेता होगा ।। तेरे हुस्न ने दस्तूर-ए-संसार ही नहीं... Read more
( तुम्हे  भी  चाहने  वाला वो कोमल हो भी सकता है )
⚛ तुम्हे भी चाहने वाला वो कोमल हो भी सकता है तुम्हारी आँख की रौनक़ में काजल हो भी सकता है तुम्हारे होंठ की लाली... Read more
प्रात की बात निराली
प्रात की बात निराली बहती है हवा मतवाली खिलती कलियां हर डाली निकल रहा अंशुमाली चहकी चिडियो का दल प्राची मे दिखी है लाली प्राणवायु... Read more